जीरो से मल्टी बिलियन डॉलर तक। अलीबाबा के संस्थापक । जैक मा सक्सेस स्टोरी । Jack Ma Success Story ।

जैक मा  Jack Maa

जैक मा आज दुनिया के सबसे मूल्यवान व्यक्तियों में से एक है। उन्होंने अकेले ही चीन की पूरी अर्थव्यवस्था और इंटरनेट उद्योग को प्रभावित किया है। वह चीन के ई-कॉमर्स जायंट और दुनिया की 10 सबसे बड़ी कंपनियों में से एक अलीबाबा के अध्यक्ष हैं। अप्रैल 2021 तक, $ 51.5 बिलियन की कुल संपत्ति के साथ, जैक मा चीन के तीसरे सबसे धनी व्यक्ति है। साथ ही दुनिया के सबसे धनी लोगों में 26 वें स्थान पर है।

जैक मा सक्सेस स्टोरी

प्रारंभिक जीवन  Early Life

जैक मा का जन्म 15 अक्टूबर 1964 को चीन के दक्षिणपूर्वी शहर हांग्जो में एक पारंपरिक संगीतकार के परिवार में हुआ था। परिवार में जैक के साथ एक बडा  भाई और एक छोटी बहन भी शामिल थी। उनके बचपन के दौरान साम्यवाद देश में अपने चरम पर था और वहाँ के निवासियों का पश्चिमी दुनिया के साथ कोई संपर्क नहीं था। वर्ष 1972 से शहर में पर्यटन व्यवसाय को बढ़ावा मिल रहा था। हालांकि अपनी योग्यता को बढ़ाने और नए कौशल हासिल करने के जोश ने जैक ने इस अवसर का सबसे अधिक लाभ उठाया।

अंग्रेजी सीखना  Learning English

उन्होंने अंग्रेजी सीखने के बदले में एक टूरिस्ट गाइड के रूप में काम करना शुरू किया । इसी दौरान उन्होंने एक पर्यटक से मित्रता की और दोनों ने पत्राचार जारी रहा। आगे चलकर इसी पर्यटक ने उनका नाम “जैक” रखा, क्योंकि उन्हें उसका मूल नाम “जैक मा यूं” उच्चारण करना थोड़ा मुश्किल लगता था। वह पढाई के मामले में बिलकुल अच्छे नहीं थे।

शिक्षा में असफल  Failed at Education

जैक अपनी प्राथमिक विद्यालय की परीक्षाओं में दो बार और मिडिल स्कूल की परीक्षाओं में तीन बार असफल रहे। यह हाई स्कूल के बाद शिक्षा प्रणाली में उनकी विफलताओं का अंत नहीं था। उन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन किया, लेकिन विश्वविद्यालय ने उनके आवेदन को दस बार अस्वीकार कर दिया। आखिरकार अपने तीसरे प्रयास में वे हैंगझोउ सामान्य विश्वविद्यालय में शामिल हो गए और फिर वहां से उन्होंने अंग्रेजी में स्नातक किया।

नौकरी में असफल  Failed at Job

जैक ने 30 अलग-अलग नौकरियों में आवेदन किया, लेकिन उन सभी ने उसे अस्वीकार कर दिया। यहां तक ​​कि उसने एक पुलिस अधिकारी बनने के लिए भी आवेदन किया। लेकिन उन्होंने उसे सरल शब्दों में यह कहते हुए कि अस्वीकार किया कि 1990 के दशक की शुरुआत में स्नातक करने के बाद भी आपको कोई ठोस रोजगार के अवसर प्राप्त नहीं हुआ। जैक ने अपनी अंग्रेजी पर भ`रोसा करते हुए पहले कुछ साल स्थानीय विश्वविद्यालय में पढ़ाने का काम किया। उन्होंने 1995 से संयुक्त राज्य अमेरिका में एक अनुवादक के रूप में काम करना शुरू किया। और उसी दौरान अपनी पहली व्यापार यात्रा में उनका इंटरनेट से परिचय हो गया।

जैक मा का प्रारंभिक करियर  Early Career of Jack Ma

जब जैक इंटरनेट पर बियर के बारे में खोज करने लगे, तब उन्हें विभिन्न देशों की बियर की जानकारी मिली। लेकिन वहां पे उन्हें चीन के बारे में कुछ भी जानकारी प्राप्त नहीं हुई। लगभग एक अरब लोगों का देश होकर भी चीन के बारे में इंटरनेट पर कोई भी जानकारी मौजूद नहीं थी। जैक ने इंटरनेट के इसी संभावित व्यावसायिक अवसरों को देखा और सोचा कि किस तरह से छोटे और मध्यम चीनी उद्यम दुनिया के बाकी हिस्सों के साथ कारोबार कर सकते हैं। तब उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर चीन और चीनी उत्पादों के बारे में “चाइना पेज” के नाम से एक वेबसाइट शुरू करने का फैसला किया। जिसने चीनी व्यवसायों और उनके उत्पादों को दुनियाभर के लोगों से जोड़ने का काम किया।

जैक के इस अनुभव को देखकर सब लोग उन्हें अपनी कंपनी के साथ भागीदार बनने का अनुरोध करने लगे इस तरह उन्होंने लोगों को कनेक्टिविटी की अविश्वसनीय शक्ति के बारे में सिखाया खासकर इंटरनेट कैसे छोटे और मध्यम उद्यमों के लिए वैश्विक व्यापार को अनिवार्य रूप से प्रभावित कर सकता है, यह दिखाया लेकिन फंड की कमी के कारण जैक को इस व्यवसाय को बाद में बंद करना पड़ा। 1990 के दशक के उत्तरार्ध में जैक ने विदेश व्यापार और आर्थिक सहयोग मंत्रालय में थोड़े समय के लिए सरकारी नौकरी की। यहाँ उन्होंने याहू जेरी यांग जैसे प्रभावशाली लोगों के साथ महत्वपूर्ण संबंध बनाए, जो बाद में उनके व्यावसायिक उद्यम में संस्थापक सदस्य बने।

अलीबाबा के संस्थापक  Founder of Alibaba

जैक ने सरकारी नौकरी छोड़ने के बाद 1999 में  फिर से इंटरनेट आधारित व्यवसाय के उपक्रमों में खुद और उनकी पत्नी सहित अठारह लोगों को शामिल किया। छोटे और मध्यम उद्यमों के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को सुविधाजनक बनाने के लक्ष्य से उन्होंने “Alibaba” कंपनी की स्थापना की। अलीबाबा के शुरुआती चरणों में जैक ने सिलिकॉन वैली से धन जुटाने की कोशिश की, जो संयुक्त राज्य अमेरिका का टेक हब है। लेकिन उन्हें वहां से इनकार मिला और उनके व्यापार मॉडल की उस समय के दौरान कई लोगों द्वारा लाभहीन और निरंतर होने के लिए आलोचना की गई थी।

अलीबाबा का विकास  Growth of Alibaba

फिर भी जैक ने अपने प्रयासों को जारी रखा और अंततः जैक क्रमशः अलीबाबा में गोल्डमैन सैक्स और सॉफ्टबैंक से पांच मिलियन और बीस मिलियन डॉलर का निवेश लाने में सफल रहे। बाद में साल 2000 में डॉट-कॉम बूम की अवधि समाप्त होने से अलीबाबा को अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में अपने आक्रामक विस्तार के कारण गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ा। जैक को कई अंतरराष्ट्रीय शाखाओं को बंद करने और चीनी बाजार में अलीबाबा की स्थिति को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित करना पड़ा। फिर भी कंपनी के संचालन को सफलतापूर्वक पूरा करते हुए जैक ने अलीबाबा की सेवाओं का विस्तार किया। उन्होने अलीबाबा द्वारा अपने परिचालन को पुनर्गठित करने के बाद अपनी अंतरराष्ट्रीय विस्तार की रणनीति बनाई।

केवल कुछ ही वर्षों में अलीबाबा ने ईबे को चीन से बाहर कर दिया। साल 2005 में जैक ने याहू से अलीबाबा में 40% हिस्सेदारी के लिए 1 अरब डॉलर का निवेश करने के लिए सफलता प्राप्त की। जल्द ही 2014 में अलीबाबा ने दुनिया के सबसे बड़ा आईपीओ लाया। जैक और उनकी टीम ने संयुक्त राज्य अमेरिका में न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में अलीबाबा को सूचीबद्ध करके 25 बिलियन डॉलर से अधिक धन जुटाया। जिसने अलीबाबा को एक पंद्रह साल पुरानी ई-कॉमर्स कंपनी बना दिया, जिसकी उत्पत्ति अमेरिका से बाहर हुई थी। और लगभग 200 बिलियन डॉलर बाजार पूंजीकरण के साथ जिसे दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में मापा जाता है।

जैक मा के जीवन से सीख  Learning from Jack Ma Life

इतनी विनम्र सफलता हासिल करने के बाद भी जैक को लगता है कि उसे आगे बढ़ाने के लिए अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। इसके बावजूद भी लॉजिस्टिक और तकनीक से जुड़ी छोटी कंपनियों को प्राप्त करके अलीबाबा होल्डिंग ग्रुप खुद को एक विशाल समूह में बदल रहा हैं। जैक मा आज उद्यमिता की दुनिया के सबसे बड़े जीवित उदाहरणों में से एक हैं।

एक गरीब बालक, जो लोगों के लिए टूरिस्ट गाइड बनके अपनी जिंदगी जी रहा था।  जिसने अपनी विनम्र स्थिति से ऊपर उठने और सफलता हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। वह जैक मा आज एक असाधारण और प्रतिभाशाली नेताओं की तरह हैं। जिन्होंने इस समय अलीबाबा ग्रुप में दो सौ बिलियन डॉलर से अधिक की कीमत का सफलता का मार्ग परिभाषित किया है। जो कि अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स बाजार पर हावी होने का अपना तरीका है। जबकि जैक मा और अलीबाबा भविष्य में कई और मॉडल दिखाना चाहते हैं। उनकी यह जीवन कहानी आने वाली कई पीढ़ियों को प्रेरणा देती रहेगी।

Please follow and like us:

Leave a Reply